2019 में आ भारत रहें हैं विश्व के शीर्ष हेलीकॉप्टर, एक झटके में तबाह कर देंगे चीन-पाकिस्तान को।

0
205

नई दिल्ली – भारत पिछले 5 साल से करीब जबसे मोदी सरकार सत्ता में आई है तब से अपनी तीनों सेनाओं को मजबूत बनाने में लगा हुआ है असल मे देखा जाए तो भारत पिछले 50 से 60 सालों तक अपने आप को इतना मजबूत नही कर पाया जितना उसको मजबूत होना चाहिए था हमारा आज के समय मे सबसे पहला दुश्मन पाकिस्तान नही बल्कि चीन है जिसके साथ भारत नें नेहरू राज के समय सन 1962 में जंग लडी और बुरी तरह से हार गए इसके मुख्य 3 कारण थे ।

indiabiotics

1- चीनी सरकार ने भारत को बिना आगाह किये चालाकी से युद्ध छेड़ा।

2- चीन के ऊपर नेहरू सरकार का अंधा विश्वास, जो भारत के लिए घातक सिद्ध हुआ।

3- भारत की सेनाओं को मजबूत करने का कोई खास प्रयास ना करना सेनाओं के पास अच्छे हथियार नही होना।

READ: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 10 ऐसे काम, जिससे साबित होता है कि वो है सबसे अच्छे प्रधानमंत्री।

इसके फलस्वरूप मोदी जी की भाजपा सरकार ने पिछली सरकारों की गलतियों नाकामियों से सीख लेते हुए सबसे पहले कार्य करना चालू किया तीनों सेनाओं को मजबूत करना और 2 दुश्मन पड़ोसी मुल्क चीन और पाकिस्तान के खिलाफ सेना को जंग लड़ने लायक बनाना उनको अच्छे हथियार ,जहाज,टैंक करीब हर प्रकार के सुरक्षा उपकरण उपलब्ध करवाना।

indiabiotics

दशकों से हम सिर्फ रूस से हथियार ख़रीदते आये हैं लेकिन 2014 में भाजपा की सरकार ने एक अलग निति के तहत काम करना चालू किया जिसमें वह विश्व के  सबसे शक्तिशाली मुल्क अमेरिका के तेजी से नजदीक जानें लगा जिस से अमेरिका के साथ भी सम्बंध अच्छे बने और रूस के साथ भी स्थिरता भी बनी रहे,और हथियारों को खरीदने में मोलभाव करने में भारत मजबूती से काम कर सके।

indiabiotics

इसी नीति के चलते भारत ने अमेरिका से विश्व सबसे उन्नत जंगी और मालवाहक हेलीकॉप्टर की डील की जिसके बारे में हम विस्तार स बताने जा रहे हैं

विश्व का नम्बर एक जंगी हेलीकॉप्टर, बोइंग के बनाये हुए (अपाचे AH-64E ) नामक हेलीकॉप्टर को माना गया इसे नम्बर एक क्यों माना जाता है इसके बारे में पढ़े विस्तार से।

>> यह एक बार में करीब पौने 3 घण्टे उड़ सकता है और उसकी उड़ने रेंज करीब 550 किलोमीटर की है

>> इसकी सबसे बड़ी ताकत है की यह एक साथ करीब 16 एन्टीटैंक मिसाइलों को लेकर उड़ान भर सकता है

>> इसकी उड़ने की गति करीब 280 किलोमीटर प्रति घण्टा की है इसको इतनी गति इसमें लगे दो शक्तिशाली इंजन और बड़े पंखों के कारण मिलती है

>> यह लगभग स्टेल्थ है मतलब इसको ऐसे बनाया गया है कि यह आसानी से रडार की पकड़ में ना आये।

>> यह दो सीटर है जिसमें एक पायलेट इसे उडाता है दूसरा (गनर) मतलब जो हथियारों को चलाता है ।

indiabiotics

लगभग 22 अपाचे भारत को अमेरिका से मिलने वाले हैं जिनकी डिलवरी 2019 के शुरुवात में होना चालू हो जाएगी।

विश्व का तीसरा सबसे एडवांस मालवाहक हेलीकॉप्टर है बोइंग का (चिनूक CH-47D) इसकी खासियत आपको बताने जा रहे हैं पढ़ना जारी रखें ।>> यह हर प्रकार के मिशन को अंजाम देने में सक्षम है इसके अंदर से आसानी से सैनिक गोलाबारी कर सकते हैं

>> इस्लामिक आतंकवादी ओसामा बिन लादेन को मारने के लिए अमरीकी कमांडो इसी हेलीकॉप्टर में पाकिस्तान गए थे क्योंकि यह शोर बहुत कम करता है।

>> यह 9.6 टन का वजन उठाता है, इसमें भारी मशीनरी, तोपें और बख्तरबंद गाड़ियां शामिल हैं जिनको यह उड़ा कर कहीं भी आसानी से ले जा सकता है।

>> यह 1962 से अमरीकी सेना का हिस्सा है और अपनी सेवाएं दे रहा है मतलब यह पूरी तरह से कामयाब हेलीकॉप्टर है

indiabiotics

भारत ने अमेरिका से करीब 15 चिनूक हेलीकॉप्टर की डील की थी जो करीब 2019 की शुरुआत से मिलना चालू हो जाएगा भारत को.

READ: देश मे इस जगह है शिवलिंग में साक्षात महादेव विराजमान , हर साल शिवलिंग आकार हो रहा है बड़ा