in ,

भाजपा सरकार अगर राम मंदिर पर कानून ले भी आये तो कांग्रेस उसे कभी पास नही होने देगी, पढ़ें

अयोध्या – राम मंदिर भारत का सबसे बड़ा मुद्दा है जिसका मामला सन-1961 से कोर्ट में है. भारत देश का सुप्रीम कोर्ट भी इस मामले पर लाचार दिखाई दे रहा है. रात के 2 बजे आतंकवादी की फांसी की सजा माफी के लिए सुनवाई करने वाला कोर्ट, दीवाली पर एक झटके में पटाखे बैन कर देने वाला कोर्ट, सब्रीमल्लाह में महिलाओं को मंदिर में महिलाओं को घुसाने का आदेश देने वाला कोर्ट इस मामले को यह बोलकर सुनवाई टाल देता है कि “राम मंदिर मामले से जरूरी मामले भी आज कोर्ट में लंबित पड़े हैं”. कहीं ना कहीं यहां आज हिंदूओ का सब्र टूटता हुआ नजर आ रहा है. और हर हिन्दू ,बहुत से राजनैतिक दलों की डिमांड है कि भाकपा राम मंदिर पर कानून लाकर मंदिर बनवाये जिसके बारे में आज हम बताने जा रहे हैं

यह भी पढ़ें: जल्द ही पहली उड़ान भरेगा भारत का पहला मानव रहित लड़ाकू विमान, अब खैर नही चीन-पाकिस्तान की।

भाजपा की तरफ से बहुत कम सम्भावनायें हैं की वो कभी राम मंदिर निर्माण के लिए कानून लेकर आये. कांग्रेस पार्टी कभी कानून पास नही होने देगी राम मंदिर पर.

  1. जैसा कि कोर्ट नें राम मंदिर पर रोजाना सुनवाई करने से मना करते हुए एक बार फिरसे 2 इसकी सुनवाई जनवरी 2019 में तय कर दी है, तब से भारत के 80 करोड़ हिंदूओ की आवाज है कि भाजपा राम मंदिर के लिए कानून लाये. भाजपा राम मंदिर पर कानून ले भी आये तो इसपर कांग्रेस कभी समर्थन नही करेगी क्योंकि यहां कांग्रेस पार्टी भाजपा को राजनैतिक फायदा नही देना चाहेगी, दूसरा कांग्रेस ने तो भगवान राम द्वारा बनवाये गए रामसेतु को नकली बताते कोर्ट में कहा था कि भगवान राम काल्पनिक हैं उनका कोई अस्तित्व नही.

कांग्रेस को मुस्लिम वोट बैंक खिसकने का डर

सब इस बात को अच्छे से जानते हैं कि कांग्रेस अपना हिन्दू वोट बैंक लगभग खो चुकी है. क्योंकि कांग्रेस पार्टी के स्टेज से हिंदूओ को तो कभी जय श्री राम का नारा भी नही लगाते हुए दिखता, इसी वजह से हिन्दू भी कांग्रेस को मुस्लिमों की पार्टी समझने लगे हैं.क्योंकि चाहे कमलनाथ का बयान हो या राहुल गांधी का वो आजकल मुस्लिमों की फिक्र ज्यादा करते हैं. अगर कांग्रेस समर्थन देकर राम मंदिर बनवा भी देती है तो भी उनको मुस्लिम वोटबैंक का नुकसान नही होगा क्योंकि मुसलमान भाजपा को वोट बहुत कम डालते हैं. राम मंदिर के बाद भी मुसलमान कांग्रेस की से दूरी नही बनाएगा.

मुसलमान भाजपा के राम मंदिर बनाने पर उनके खिलाफ हो जायेंगे और कांग्रेस के राम मंदिर बनवाने पर समर्थन देने पर कांग्रेस को हिंदुओ को लुभाने में कामयाबी मिल जाएगी और कांग्रेस को इसका फायदा भी होगा. और राम मंदिर मामला खत्म भी हो जाएगा.

भाजपा राम मंदिर पर कानून क्यों नही लाना चाहती

भाजपा राम मंदिर पर कानून इसलिए नही लाना चाहती क्योंकि भाजपा ये जानती है, कि कांग्रेस भगवान राम का सम्मान नही करती उनको कोर्ट में काल्पनिक तक कह चुकी है. वो कभी भी राम मंदिर निर्माण कानून पर समर्थन नही देगी. इसके बाद कानून लाने का फायदा क्या होगा, इसलिए भाजपा कानून नही ला रही. भाजपा सुप्रीम कोर्ट के खिलाफ जाकर यह काम कभी नही करना चाहेगी जिसकी वजह से सुप्रीम कोर्ट नाराज हो और कांग्रेस बाद में इस मुद्दे को चुनाव में उठा कर इसका फायदा ले.

यह भी पढ़ें: 2019 में आ भारत रहें हैं विश्व के शीर्ष Helicopters, एक झटके में तबाह कर देंगे चीन-पाकिस्तान को।

aghori sadhus facts

10 Unbelievable Facts About Aghori Sadhus In India

भारत में अघोरी साधु के बारे में 10 रहस्यमय तथ्य | जरूर जानिए