in ,

सेना प्रमुख का बयान, कश्मीर में शांती के लिए प्रतिबद्ध लेकिन आतंकवादियों को चुन-चुन कर मारा जाएगा

2014 के बाद से जबसे भाजपा की मोदी सरकार भारत में आई है, तबसे आतंकवादियों के बुरे दिन चालू हो गए हैं. उनको भारतीय सेना बिल मेसे निकाल-निकाल कर गोली मार रही है.

इस्लामिक आतंकवाद पूरे विश्व का सबसे बड़ा सर दर्द है. पूरी दुनिया में हर रोज कहीं न कहीं आतंकवादी हमला हो रहा है. हर रोज मासूमों की जानें जा रही हैं. इस्लामिक आतंकवाद से भारत भी बुरी तरह से पीड़ित है. आजादी के बाद से ही भारत और पूरे विश्व के राजनीतिक मंच आतंकवाद की परिभाषा तय नही कर पाए हैं. मोदी जी नें भारत के प्रधानमंत्री पद की कुर्सी पर बैठने के बाद से ही, सबसे पहले आतंकवाद के खिलाफ जंग छेड़ी और इस्लामिक आतंकवाद, जो पाकिस्तान द्वारा भारत में फैलाया हुआ है, उसके खिलाफ हर बड़े मंच पर आवाज उठाई.

जब-जब भारत में कांग्रेस का राज रहा है तब-तब सेना को एक प्रकार से खुला हाथ कभी नही दिया गया, भारत में बहुत बडे-बडे इस्लामिक आतंकवादी हमले हुए जिसमें सैंकडो लोग मारे गए. इन हमलों में मुख्य थे, मुंबई धमाके और 26/11 ताज होटल में आतंकवादी हमला 1993 धमाकों में दाऊद इब्राहिम नामक आतंकवादी का हाथ था, जो आज पाकिस्तान में छुपा है, दूसरा 26/11 हमला हाफिज सईद नें करवाया था, वह भी एक पाकिस्तानी आतंकवादी है. इनके द्वारा किये गए हमलों में बहुत सारे मासूम लोग इस आतंकी हमले में मारे गए थे.

आतंकवादियों की सजा माफी करवाने का प्रयास करते आये हैं कांग्रेस और बॉलीवुड के लोग.

भारत में अगर देखा जाए तो बहुत से लोग वो लोग हैं जिनको भारत से कोई लेना देना नही उनको या तो वोटबैंक से मतलब होता है, या उनकी फिल्म पाकिस्तान में रिलीज होनी चाहिए उसमें कोई दिक्कत न हो. इस्लामिक आतंकवादी याकूब मेमन जिसने मुंबई धमाके करवा कर सैंकडो मासूम लोगों को मरवा दिया था, कोर्ट द्वारा उसकव फांसी की सजा सुना दी गई थी. उसकी फांसी की सजा माफ करवाने के लिए देश की 50 बड़ी हस्तियों नें आतंकवादी याक़ूब की फांसी की सजा माफी के लिए हस्ताक्षर किए थे. जो पत्र राष्ट्रपति के पास भेजा गया था, जिसमे बॉलीवुड के लोग और कांग्रेस पार्टी समेत अन्य लोगों के नाम शामिल थे.

मोदी सरकार नें सेना को दी खुली छूट और पाकिस्तान पर की सर्जिकल स्ट्राईक

सितंबर 2016 की 18 तारीख को पाकिस्तान नें अपने इस्लामिक आतंकवादियों को भेज कर भारत के “उरी सेक्टर” में सुबह के समय हमला करवाया, इस हमले में भारत के 18 जवान शहीद हो गए और 4 जेहादी आतंकवादियों को सेना नें मौत की नींद सुला दिया, इस हमले का बदला सेना जरूर लेना चाहती थी, और उनको चाहिए थी सरकार की तरफ से खुली छूट.

भाजपा की मोदी सरकार नें भी सेना को इसका बदला लेने के लिए एक दम खुली छूट दी, इसके बाद सेना नें 2016 को 28-29 सितंबर को पाकिस्तान की सीमा नें 3 किलोमीटर अंदर घुस कर उनके आतंकी ठिकानों को तहसनहस कर दिया और उनके बहुत से आतंकवादी मार डाले.

सर्जिकल स्ट्राईक के बाद से ही भारतीय सेना बहुत आक्रमक हो चुकी है, आतंकवादियों के खिलाफ और आतंकवादी को चुन-2 कर गोली मार रही है. हाल ही में सेना अध्यक्ष जरनल बिपिन रावत नें मीडिया के साथ प्रेसवार्ता की और उन्होंने बताया कि भारतीय सेना बहुत अच्छा कर रही है. वो चुन-2 कर आतंकवादियों गोली मार रही है,इसके साथ ही चीन बॉर्डर पर भी सेना मजबूती से खड़ी है. जरनल बिपिन रावत नें कहा कि हम भी कश्मीर में शांती चाहते हैं, पर आतंकवादियों के साथ कोई समझौता नही होगा हम उनको मौत की नींद सुलाते रहेंगें।

यह भी पढ़ें: 2019 में आ भारत रहें हैं विश्व के शीर्ष Helicopters, एक झटके में तबाह कर देंगे चीन-पाकिस्तान को।

hindus

The Hindus are the Most Educated Religious Communities in the United States

Bollywood Star Kids Who Looks Just Like Their Parents When They Were Young