in ,

इस जगह पर रंगों से नही, बल्की चिता की राख से होली खेली जाती है

हिंदुस्तान में भांति-2 की संस्कृति और त्यौहार हैं. होली का त्यौहार  वैसे तो पूरे भारत में रंगों से बनाया जाता है, लेकिन एक ऐसी जगह भी है, जहां इसे कुछ अलग ही तरीके से बनाया जाता है.

होली का त्यौहार रंगों का त्यौहार है, खुशियों का त्यौहार है. होली भारत प्रमुख त्यौहारों मेसे एक है. होली पूरे विश्व में इतनी लोकप्रिय है, कि विदेशों से भी लोग होली खेलने के लिए भारत आते हैं. भारत में होली तो वैसे सभी राज्यों में बनाई जाती है लेकिन, होली मुख्य रूप से यूपी के बरसाना में बनाई जाती है, यहां के लोग लठमार होली भी खेलते हैं. इसके इलावा होली राजस्थान के जैसलमेर में बनाई जाती है, जहां सबसे ज्यादा विदेशी लोग इस त्यौहार का आनंद लेते हैं.

आपको जानकर हैरानी होगी कि, भारत का एक हिस्सा ऐसा भी है, जहां होली लाशों की राख से खेली जाती है. जी हां, चिता का नाम सुनते ही इंसान के मन मे डर बैठ जाता है. लेकिन यहां चिताओं की राख के साथ भी होली खेलने वाले लोग बैठे हैं. यह होली भी यूपी के काशी में खेली जाती है. लेकिन इस होली को खेलने वाले लोग गिने-चुने ही होते हैं. जिनके बारे में हम बताने का रहे हैं.

चिता की राख के साथ होली

जिस चिता को देख कर कुछ लोगों को डर लगने लगता है, “काशी की मणिकर्णिका घाट” पर लोग लाश की राख से होली खेलते हैं. इस होली को खेलने वाले लोग हैं “अघोरी”, जो महादेव के पक्के भग्त माने जाते हैं. ये लोग डमरू बजाते हुये, “हर हर महादेव” के नारे लगाते हैं. नारों के साथ- साथ चिता से राख उठाकर एक दूसरे पर रंग के रूप में लगाते हैं.

सालों पुरानी है परंपरा

इस होली को भस्म होली के नाम से जाना जाता है. तो कुछ लोग उसे “मसान की होली का नाम भी देते हैं, क्योंकि ‘ये मसाने में खेली जाती है. यह परंपरा आज से नही सालों से चलती आ रही है. भस्म होली में अघोरियों के साथ वहां के लोग भी ह्रदय को मजबूत करते हुए, उनके साथ होली खेलते हैं. इस दौरान सभी लोग महादेव की साधना मे विलीन रहते हैं.

महाशिवरात्रि से ही हो जाता है इसका आरंभ

इस होली की शुरुआत होती है, बाबा “मसाननाथ” के नाम से सबसे पहले उनकी आराधना की जाती है. उनका श्रंगार किया जाता है. इसके बाद आरती के बाद महादेव के नारों के साथ होली खेलना शुरू कर दिया जाता है. कुछ अन्य जानकारियों के अनुसार इस खेल का आरंभ महाशिवरात्रि के बाद से ही शुरू हो जाता है.

सभी देशवासियों को India biotics की तरफ से होली के त्यौहार की शुभकामनाएं, रंगों और पानी के साथ खूब मजे से होली का आनंद जरूर लें, धन्यवाद 

नीले आसमान से बहुत ही खूबसूरत दिखता है भारत, स्वर्ण मंदिर से लेकर ताजमहल की देखें तस्वीरें

400 वर्ष तक बर्फ के नीचे था यह मंदिर, आज यह केदारनाथ धाम के नाम से जाना जाता है