in

भारत में दुकानदारों को यह चीज़ें ग्राहक को मुफ्त देनी ही पडती हैं, वरना ग्राहक मांगे बिना नही रहते

हर देश के अपने-2 असूल और परंपरा होती है. जिसके हिसाब से वहां के नागरिक उस पध्दति का पालन करते हुए अपनी गृह-गृहस्ती चलाते हैं.

भारत किसी समय मे सबसे बडा व्यापार का केंद्र हुआ करता था. क्योंकि भारतीय लोगों को व्यापार करने तौर-तरीकों में महारथ हासिल थी. आज के जमाने मे भारत के लोग बडी-2 शॉपिंग वेबसाइटों पर समान खरीदते हैं. वो समान खरीदने से पहले काफी समय लगाते हैं, कि कैसे खरीद में पैसा बचाया जाए या हमें कुछ साथ मे मुफ्त मिल जाये. बडी-2 कम्पनियां ग्राहकों को समान खरीदने में अच्छी छूट और मुफ्त में चीजें देती हैं. ठीक ऐसा ही आज से करीब 200 साल पहले भारतीय व्यापारी अपना सामान बेचने के लिए लोगों को अच्छी छूट और बडी खरीद करने पर साथ में मुफ्त चीजें भी देते थे. वो परंपरा आज भी भारतीय समाज मे चली आ रही है. जिसके बारे में आज हम बताने जा रहे हैं कि भारतीय यह चीजें फ्री मे लिए बिना नही रह पाते.

यह हैं वो चीजें जो भारतीय मांगे बिना नही रह पाते.

(1) धनिया-मिर्च

सब्जी विक्रेताओं का धंधा रोजमर्रा के होता है. उनके ग्राहक भी लगभग पक्के ही होते हैं. भारत मे जितने भी लोग रोजान सब्जी खरीदने जाते हैं. सब्जी खरीदने के बाद वो मिर्च-धनिया मुफ्त में डलवाते हैं. अगर कोई सब्जी वाला देने से मना करे तो उस दुकान से सब्जी लेना बंद कर देते हैं.

(2) पानीपुरी में एक्स्ट्रा पानी

पानीपुरी भारत का सबसे पसंदीदा स्ट्रीट फूड माना जाता है. लोग इसे बडे चाव से खाते हैं. भारत में लोग पानीपुरी खाने के बाद पानी पीते हैं, लेकिन इसके बाद भी उनका मन नही भरता और वो उसके बाद फिरसे पानी की डिमांड करके पानी पीते हैं.

(3)सौंफ-शक्कर

किसी भी ढाबे पर भारत के लोग खाना खाने जाते हैं और खाना समाप्त होने के बाद उनको खाना पचाने के लिए सौंफ जरूर चाहिए होती है.

(4) कैचअप

भारत का लोकप्रिय स्ट्रीट फूड है “चाऊमीन और बर्गर”. जब लोग इसे खा रहे होते हैं तब उनको अलग से कैचअप जरूर डालना होता है. वो लोग अपने साथ ही कैचअप की बोतल ही रख लेते हैं.

(5) राशन के साथ चॉकलेट

बहुत से लोग रसोई का राशनपानी महीने में एक बार एक साथ इक्कठा खरीदते हैं. राशन खरीदने के दौरान लास्ट में बच्चे को चॉकलेट मुफ्त में देनी होती है. वरना यह लोग मांगकर भी ले लेते हैं.


अगर आपके शरीर मे Vitamin-D की कमी है, तो हो सकते हैं ये भयानक रोग

दोनो हाथ और एक पैर से अपाहिज शुभम ने दसवीं की सीबीएसई परीक्षा, पैर से लिखकर 79% अंकों से पास की